बुधवार, 27 मई 2015

मम्मा की डायरी- कुछ पन्ने यूं हीं

17 मई की संध्या। इंडिया हैबिटेट सेंटर का केसोरिना हॉल। जब हम पहुंचे तो हॉल में गिनती के लोग। देखते ही देखते हॉल में बच्चों की शैतानियां शुरू हो गईं। मम्मियों की आंखें लाल होने लगीं और इस सबके बीच सज गया मंच- मम्मा की डायरी पर बातों के लिए। नताशा ने संचालन का जिम्मा उठाया और लेखिका अनु सिंह चौधरी ने बातों की भूमिका बांधी। एक सवाल के साथ- मैं मां न होती तो न जाने क्या होती?
औपचारिक शुरुआत दिल्ली यूनिवर्सिटी के कुछ स्टुडेंट्स की बनाई फिल्म- आओगी ना मां - से हुई। संवाद के तौर तरीके चिट्ठी पत्री से बदल कर ईमेल तक पहुंचे। इस दौरान बेटी रिद्धिमा की शैतानी बढ़ी, सामने बैठे शख़्स ने नाराज़गी जाहिर की, अर्चना राजहंस ने रिद्धि को बातों में फंसाया और हम कार्यक्रम में मशगूल होने की कोशिश करते रहे।
नताशा ने पब्लिक प्लेटफॉर्म पर पर्सनल राइटिंग के चलन का जिक्र किया, उसके तमाम ख़तरों के साथ। इस सवाल के साथ कि कहीं ऐसे लेखन के जरिए माता-पिता के साथ डिसकनेक्ट को 'हील' करने की कोशिश तो नहीं। पत्रकार मंजीत ठाकुर ने मां की 'कड़ियल' छवि की अंतर्कथा शेयर की। विनीता ने अपनी मां और उनकी सास के रिश्तों से सबक लेते हुए अपनी बेटी के लिए एक प्रण का किस्सा साझा किया। उन्होंने कहा कि बेटी पर कभी हाथ न उठाने का संकल्प तो ले लिया लेकिन इसके लिए उन्हें कई बार बड़ी कठिन परीक्षा से गुजरना पड़ा।

वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी ने इस चुटकी के साथ बात शुरू की कि पत्रकारों को अब पढ़ने-लिखने की फुरसत कहां? उन्होंने कहा- मां एकतरफा प्रेम करती है। यही एकतरफा प्रेम तमाम रिश्तों के सुधरने, बनने की नींव होता है। इंद्र कुमार गुजराल से बातचीत का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ बातचीत में भी ऐसे एकतरफा प्रेम की अहमियत है। उन्होंने मां को मेडिटेशन गुरु बताया, जिनका मंत्र था- जाहे विधि राखे राम, ताहि विधि रहिए।
मनीषा पांडेय ने स्त्री के जन्म देने की प्राकृतिक ताकत पर स्त्री के अधिकार की वकालत के साथ अपनी बात शुरू की। उन्होंने कहा कि महिलाओं को मां होने के लिए शादी करने की शर्त से निजात मिलनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने एक कविता भी सुनाई, जिसके जरिए अजन्मे बच्चों की मां की टीस हॉल में पसर गयी। तूलिका ने अपने पुराने दिनों की वो यादें साझा की, जो उनके लड़की होने से जुड़ीं थीं- कैसे दिल्ली आने के लिए सैकड़ों सवालों के जवाब देने पड़े, कैसे भाई न होने की वजह से रिश्ता ठुकरा दिया गया... आदि-आदि।
नीलम ने कहा कि वो अनु की किताब पढ़ने के बाद एक दिन तक 'साइलेंट मोड' में चली गईं थीं। फिल्म देखने पर 'गिल्ट' का एहसास 'मम्मा की डायरी' पढ़ते हुए ताजा हो गया। प्रियंका अपनी मां के साथ कार्यक्रम में पहुंचीं थीं। उन्होंने किताब की आख़िरी लाइनों का ज़िक्र किया- जो है बस यही पल है... ज़िंदगी डूबते-डूबते बच जाती है... बच्चों की वजह से...
रमा ने अपनी 'नालायकी' के इजहार के साथ बात शुरू की। बच्चों और पति की मौजूदगी में उन सारी बातों का जिक्र किया जो वो बकायदा नोट बना कर ले आईं थीं। उन्होंने कहा कि शादी से पहले आप चाह कर भी बच्चे नहीं ले सकतीं और शादी के बाद आप चाह कर भी बच्चे न लेने का फ़ैसला नहीं कर सकतीं। गृहस्थी में बच्चा प्रेम को अपडेट कर देता है। पति संजय की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि पहले बच्चे को तीन-तीन घंटों तक गोद में खिलाने वाले पिता भी दूसरे बच्चे के वक़्त थोड़े बदल से जाते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों की ज़िम्मेदारी को लेकर पलायनवादी रवैया पुरुष या स्त्री किसी का नहीं होना चाहिए।
नताशा ने इस टिप्पणी के साथ चर्चा को आगे बढ़ाया कि 'नाइस-नाइस' खेलने का वक़्त नहीं है। प्रीति ने कहा कि सत्तर के दशक के बच्चों के लिए मां त्याग की मूर्ति हुआ करती थी, वो दीवार जैसी फ़िल्मों का दौर था, जहां सारे ऐशो-आराम एक तरफ और मां दूसरी तरफ। उन्होंने कहा कि जब पहली बार उन्होंने स्लीवलेस महिलाओं को सुट्टा मारते देखा तो हिंदी फिल्मों की 'वैम्प' का ख़याल ही ज़ेहन में आया। 4 साल की शादी के बाद तमाम तानों के दबाव में बच्चा लिया, लेकिन सच कहूं तो मैंने 'मदरहुड' इंज्वॉय नहीं किया। एलएसआर की मनोविज्ञान की स्टुडेंट रहीं प्रीति की स्वीकारोक्ति, कार्यक्रम का चरम ही कहा जाएगा।
अंत में अपनी मर्जी से मां नहीं बनने का विकल्प चुनने वालीं अमृता ने अपनी बातें रखीं। उन्होंने कहा कि इससे उनका मातृत्व कमतर नहीं हो गया। रिश्तेदारों के तमाम बच्चे उनसे वो सब कुछ साझा कर लेते हैं, जो वो शायद अपने मम्मी पापा से भी न करते हों। इक्का -दुक्का कुछ और टिप्पणियां हुईं और कार्यक्रम शोभा की इस गुजारिश के साथ संपन्न हुआ कि हम कुछ और ईमानदार हो जाएं... खुद को बेहतर होने की खिड़की पर खड़ा पाएं।
इस परिचर्चा ने 'मम्मा की डायरी' की खिड़कियां खोलीं... मैं, मेरी पत्नी... उनकी बहन के मन में इस घर में दाखिल होने की तमन्ना जगी। किताब का ऑर्डर किया था, जो ये टिप्पणी लिखते-लिखते दरवाजे से घर में दाखिल हो चुकी है। लेकिन बिना पढ़े भी एक पत्रकार ने (विजय त्रिवेदी के मुताबिक पढ़ने से वास्ता रखना थोड़ा मुश्किल तो है ही ) जो कुछ मन में सहेजा-समेटा वो साझा कर दिया।


पशुपति शर्मा

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (29-05-2015) को "जय माँ गंगे ..." {चर्चा अंक- 1990} पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Harash Mahajan ने कहा…

अति सुंदर !!